हमारे बारे में

लाॅजिस्टिक्स निदेशालय, अप्रत्यक्ष कर और सीमा शुल्क के केंद्रीय बोर्ड का एक संबद्ध कार्यालय है और तीन प्रभागों से मिलकर बने होते हैं जिनके नाम हैं - तस्करी विरोधी प्रभाग, समुद्री विभाग और संचार प्रभाग। यह पहले निवारक संचालन निदेशालय के रूप में जाना जाता था। निदेशालय, अप्रत्यक्ष कर और सीमा शुल्क के केंद्रीय बोर्ड, मुख्य आयुक्तों और डीजीडीआरआई सहित सीमा शुल्क और अप्रत्यक्ष कर शुल्क के आयुक्तों के साथ घनिष्ठ समन्वय में कार्य करती है। तस्करी विरोधी, संचार और समुद्र से संबंधित क्षेत्र संरचनाओं के सैन्य आवश्यकताओं की निगरानी के लिए लाॅजिस्टिक्स निदेशालय एक नोडल एजेंसी है। यह निदेशालय हमारी अंतर्राष्ट्रीय सीमाओं के साथ लगभग 66 परिचालन सीमा शुल्क स्टेशनों, 12 प्रमुख बंदरगाहों सहित 94 बंदरगाहों और विदेशी डाकघरों और भूमि सीमा शुल्क स्टेशनों, आईसीडी आदि के अलावा कार्गो और बैगेज हैंडलिंग 36 अंतरराष्ट्रीय बंदरगाहों की जरूरतों को पूरा करता है जो बहुत ज्याीदा तस्करी की चपेट में हैं। इस प्रकार यह निदेशालय भूमि और समुद्र दोनों में तस्करी को रोकने के लिए सैन्य सहायता प्रदान करता है।

वर्ष 1994 में, इस निदेशालय को सीमा शुल्क और केंद्रीय उत्पाद शुल्क कल्याण कोष, निष्पादन पुरस्कार कोष और कर्मचारी कल्याण को बढ़ावा देने हेतु विभिन्न योजनाओं के लिए वित्तीय सहायता प्रदान करने के लिए विशेष उपकरण कोष, कम से कम समय के भीतर प्राकृतिक आपदाओं में और तस्करी विरोधी विशेष उपकरण के अधिग्रहण के लिए राहत प्रदान करने के प्रशासन का काम भी सौंपा गया था। पर्वतमाला के उन्नयन के लिए 1% प्रोत्साहन योजना के तहत धन के आवंटन से संबंधित कार्य वर्ष 2007 में इस निदेशालय को सौंपा गया था। अब सीमा शुल्क और केंद्रीय उत्पाद शुल्क कल्याण कोष और निष्पादन पुरस्कार निधि से संबंधित कार्य मानव संसाधन विकास, नई दिल्ली के नव निर्मित महानिदेशालय को सौंपा गया है।

अब सीमा शुल्क और अप्रत्यक्ष कर कल्याण कोष और निष्पादन पुरस्कार निधि से संबंधित कार्य मानव संसाधन विकास, नई दिल्ली के नव निर्मित महानिदेशालय को सौंपा गया है।

लाॅजिस्टिक्स निदेशालय के कार्यों का मुख्य आकर्षण निम्नद प्रकार हैं –
(क) तस्करी विरोधी प्रभाग निम्नलिखित कार्यों को संपन्ना करती है:
    1. क्षेत्र संरचनाओं के तस्करी विरोधी उपकरण की जरूरतों का आकलन, उनकी खरीद के लिए प्रस्तावों के योग, मंत्रालय की ओर से अनुमोदन की प्राप्ति तथा अधिग्रहण, स्थापना / उनका वितरण।
    2. जब्त की गई, अधिहृत शेयरों की निगरानी और आयुक्तालय के साथ निपटान के सामान के लिए तैयार।
    3. आयुक्तालय / सीमा शुल्के कार्यालय की तस्करी विरोधी पक्ष के निरीक्षण और माल पड़ताल।
    4. मंत्रालय के उपयोग के लिए जांच से संबंधित सांख्यिकीय डेटा बैंक, अधिनिर्णय, पुरस्कार, अभियोजन, भंडार और वस्तुओं के निपटान का रखरखाव तथा मासिक निष्पादन संकेतक विज्ञप्ति की तैयारी।
    5. विभागीय अधिकारियों को विनियोजित हथियारों की ऋण राशि।
    6. खोजी कुत्ते का अधिग्रहण और तैनाती।
(ख) लाॅजिस्टिक्स निदेशालय की समुद्री शाखा के मुख्य कार्य निम्नानुसार हैं:
    1. समुद्री आयुक्तालय के लिए तकनीकी सहायता प्रदान करना।
    2. सेंट्रल स्टोर यार्ड, मुम्बई के माध्यम से केंद्रीय खरीद और तकनीकी तथा सामान्य समुद्री भंडारों की आपूर्ति का कार्य।
    3. जहाजों की मरम्मत के लिए तीन कार्यशालाओं के ऊपर समग्र पर्यवेक्षण और नियंत्रण।
    4. समुद्री आयुक्तालय से प्राप्त वाहिकाओं के विनियोजन / निंदा के लिए प्रस्तावों की जांच करना।
    5. शिल्प और चालक दल से संबंधित सांख्यिकीय डेटा बनाए रखना।
    6. जहाजों के संचालन, कार्यशालाओं और सीएसवाय के लिए प्रशिक्षित और अनुशासित तकनीकी कर्मियों की भर्ती।
(ग) संचार विभाग के मुख्य कार्य निम्नानुसार हैं:
    1. सीमा शुल्क निवारक आयुक्तालय के लिए वायरलेस संचार प्रस्तावों की योजना और रणनीति तैयार करना तथा वायरलेस उपकरणों के अधिग्रहण के लिए मंत्रालय की ओर से अनुमोदन प्राप्त करना।
    2. आयुक्तालय के बीच वायरलेस उपकरणों का वितरण।
    3. आयुक्तालय के बीच वायरलेस उपकरणों की निगरानी।
    4. आयुक्तालय की मासिक यातायात रिपोर्टों के आधार पर समेकित मासिक वायरलेस यातायात रिपोर्ट तैयार करना।
    5. आयुक्तालय में वायरलेस नेटवर्क के परिचालन की स्थिति की निगरानी।
    6. आयुक्तालय में वायरलेस उपकरणों के रखरखाव और मरम्मत के लिए सहायता प्रदान करना।
    7. आयुक्तालय में वायरलेस प्रभागों का निरीक्षण।
    8. संचार सुरक्षा के उल्लंघनों से संबंधित मामलों में रक्षा मंत्रालय के अधीन क्षेत्रीय कमान सुरक्षा समितियों के साथ समन्वय।
    9. आयुक्तालय में वायरलेस स्टेशनों के संचालन के लिए नए लाइसेंस और मौजूदा लाइसेंस के नवीकरण प्राप्त करने के लिए संचार मंत्रालय के साथ समन्वय।
    10. समूह 'ए', 'बी' और 'सी' दूरसंचार कर्मियों की योजना एवं प्रबंधन।
    11. ग्रुप 'बी' दूरसंचार कर्मियों का संवर्ग नियंत्रण।
    12. दूरसंचार कर्मचारियों से संबंधित अदालत मामलों का निपटान।
    13. दूरसंचार कर्मचारियों का प्रशिक्षण।